Haryanvi Jokes in Hindi

Read here latest collection of very funny Haryanvi Jokes in hindi. You may share these Hindi Haryanvi Jokes as Whatsapp Status or Facebook Status or send as Sms.

आडे़ भी बांदर उडे़ भी

Aade Bhi Baandar Ude Bhi

एक हरियाणवी जोड़ी...

बीवी : अजी सुणो हो के आदमी की डेथ होए पाछे स्वर्ग में उन्हें अप्सरा मिले सै... फेर लुगाईयां ने स्वर्ग में के मिले है?

पति : बांदर मिले है बांदर!!

बीवी (ठंडी सांस लेती हुई) : यो तो घणी गलत बात है... आडे़ भी बांदर उडे़ भी बांदर।

आरक्षण चाहिए तो चाहिए

पत्रकार:- कौन हो भाई?
जाट:- जाट हूँ।

पत्रकार: कितनी जमीन है आपके पास ?
जाट: 122 एकड़।

पत्रकार: गाड़ी कौन सी है आपके पास?
जाट: पजेरो।

पत्रकार: तो और क्या चाहिए?
जाट: आरक्षण।

पत्रकार: क्यूँ भाई?
जाट: मन्ने ना पता भैंस की पूँछ। जादा सवाल कोनी, आरक्षण चाहिए तो चाहिए बस।

दादा-पोते का प्यार

Dada Pote Ka Pyar Jokes

हरियाणा में दादा और पोते का प्यार...

दादा :- छोरे लुकज्या तावला सा तेरी मास्टरनी आण लागरी सै...

पोता :- दादा तू भी लुकज्या मने तेरे मरण पे 1 हफ्ते की छुट्टी ले राखी सै!

ताई की गवाही

एक बार एक मुक्कदमे में ताई गवाह बणा दी गई। ताई जा कर खड़ी होई, दोनो वकील भी ताई के गाँव के ही थे!

पहला वकील:- ताई, तू मन्ने जाने है?

ताई:- हाँ भाई तू रामफूल का है ना... तेरा बापु घणा सूधा आदमी था पर तू निक्कमा एक नम्बर का झूठा... एर झूठ, बोल बोल कर के तूं लोग ने ठगै है। झूठे गवाह बना कर के तू केस जीते से। तेरे से तो सारे लोग परेशान है, तेरी लुगाई भी परेशान हो कर के तन्ने छोड़ गै भाज गी।

वकील बेचारा चुप हो कर के उसने सोचा... तेरी तो बेज्जती हो गई अब दुसरे की और करा।

उस वकील ने थोडी देर में दूसरे वकील की तरफ इशारा कर के पूछा:- ताई, तू इसने जाणे से के?

ताई बोली:- हाँ यो फुलीयो काणे का छोरा से इसके बापु ने निरे रपिये खर्च करके इने पढाया पर इसने 'आंक' न सीखा सारी उमर छोरिया कै पीछै हांडे गया. इसका चक्कर तेरी बहू से भी था!

( कोर्ट में जनता हांसन लाग गी )

जज बोला, 'आर्डर आर्डर' और दोनो वकील बुलाये।

जज बोला :- अगर तुम दोनो वकीलों में से किसी ने भी इस ताई से यो पूछा के 'इस जज न जाणे से' तो मैं थारे गोली मरवा दूँगा।

बेजोड़ हरियाणवी

एक सच्चा हरियाणवी जिम नहीं जाता।
सिर्फ "जीमने" जाता है
और
हरियाणवी का ब्लड ग्रुप होता है
"घी पॉजिटिव"

हरियाणवी लोग बीमारी ठीक होने का श्रेय डाक्टर को नहीं
रुपयों को देते है
"भाई तीन हजार रुपया लाग्या, तब जाके ठीक होया।"